Breaking News
Home / BANNER / एक मात्र दत्तात्रेय मंदिर, जहां 25 साल से हो रही महिला बॉडी बिल्डिंग स्पर्धा

एक मात्र दत्तात्रेय मंदिर, जहां 25 साल से हो रही महिला बॉडी बिल्डिंग स्पर्धा

 छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के ब्रह्मपुरी इलाके में 500 साल से भी ज्यादा पुराना भगवान दत्तात्रेय का एक ऐसा मंदिर है जहां पिछले 25 सालों से बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। एक समय था जब बॉडी बिल्डरों की ज्यादा पूछपरख नहीं होती थी, लेकिन पिछले कुछ सालों में युवाओं में बॉडी बनाने का ऐसा जुनून सवार हुआ है कि हर युवा बॉडी बिल्डर बनना चाहता है।

यही कारण है कि दत्तात्रेय मंदिर में होने वाली प्रतियोगिता से हर साल एक नहीं कई बॉडी बिल्डरों को नई पहचान मिल रही है। न केवल जिला स्तर पर बल्कि संभाग, प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भी बॉडी बिल्डर भाग ले रहे हैं। युवाओं के अलावा दिव्यांग और महिला बॉडी बिल्डरों को भी नया मुकाम हासिल हो रहा है।

35 साल पहले गिने-चुने युवा ही रखते थे बॉडी बिल्डर बनने की ख्वाहिश

भगवान श्रीदत्तात्रेय मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष हरिवल्लभ अग्रवाल बताते हैं कि छत्तीसगढ़ राज्य बनने से लगभग 15 साल पहले 1985 में कुछ गिने-चुने युवा ही बॉडी बिल्डर बनने की ख्वाहिश रखते थे। बॉडी बनाने का एकमात्र जरिया अखाड़ा ही हुआ करता था। उस समय एक भी जिम शहर में नहीं था। युवा अखाड़ों में ही दंड बैठक लगाकर, मुदगल घुमाकर बॉडी बनाते थे। उस समय पुरानी बस्ती लोहार चौक स्थित सरस्वती स्कूल में बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता की शुरुआत हुई। कुछ गिने-चुने पहलवान ही शामिल हुए।

फिल्मी हीरो को देखकर युवाओं में जागा शौक

1985 से 1990 के दौर में फिल्मी हीरो मिथुन चक्रवर्ती, सलमान खान, गोविंदा, संजय दत्त, सन्नी देओल की बॉडी देखकर युवाओं में रुचि जागी। इसके बाद प्रतियोगिता में भाग लेने युवाओं की कतार लग गई।

1990 से मंदिर में शुरू हुआ आयोजन

सरस्वती स्कूल में होने वाली प्रतियोगिता किसी कारणवश कुछ सालों बाद बंद हो गई। इसके बाद 1990-91 के दौरान ब्रह्मपुरी स्थित भगवान दत्तात्रेय मंदिर में प्रतियोगिता शुरू हुई। अब इसका आयोजन हर साल 10 दिवसीय दत्तात्रेय जन्मोत्सव के दौरान किया जाता है। प्रतियोगिता में पूरे रायपुर संभाग से प्रतिभागी जौहर दिखाने आते हैं। कई प्रतिभागी राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में भी किस्मत आजमा चुके हैं।

About admin

Check Also

लॉकडाउन में जंगल कटवा रहे वन विभाग के कर्मचारी

ग्वालियर– लॉक डाउन के चलते हुए भी सरकारी कर्मचारियों का पैसे कमाने का मोह कम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *