Breaking News
Home / BANNER / भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन ने मीडिया की पोल खोल दी, वतन वापसी करते ही बरसे

भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन ने मीडिया की पोल खोल दी, वतन वापसी करते ही बरसे

पाकिस्तान की जमीन पर लगभग 56 घंटे गुजारने के बाद भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान भारत लौट आये हैं। 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद एक मार्च तक की अवधि में भारत पाकिस्तान के रिश्तों में बेहद तल्खी रही और कूटनीतिक उठापठक देखा गया था। पाकिस्तान द्वारा भारत की जमीन पर हमले की कोशिश को नाकाम करते हुए विंग कमांडर अभिनंदन PoK में चले गए थे। यहां पर पाकिस्तान फौज ने उन्हें हिरासत में ले लिया था।पाकिस्तान ने कमांडर अभिनंदन को वाघा बार्डर के रास्ते भारत भेजा। इससे पहले पांच घंटे से अधिक समय तक कागजी कार्रवाई चलती रही। उन्हें बार्डर पर ही रोके रखा गया। बता दें कि पीओके में उनका मिग-21 विमान क्रैश होने की वजह से पाक सेना ने पकड़ लिया था।
पाक प्रधानमंत्री इमरान खान के ऐलान के बाद से अभिनंदन को छोड़ने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। पाक सेना उन्हें करीब 11 बजे लेकर इस्लामाबाद से रवाना हुई। लाहौर से उन्हें शाम करीब साढ़े चार बजे भारी सुरक्षा के बीच वाघा सीमा लेकर आये।
कमांडर अभिनंदन ने क्या कहा 
मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है। मैं भारतीय वायु सेना में एक लड़ाकू विमान चालक हूं। मैं टारगेट ढूंढने की कोशिश कर रहा था। तभी उनके एयर फोर्स ने मुझे गिराया। उसके बाद मुझे अपना जहाज छोड़ना पड़ा था। जो टूट गया था।
मैंने इजेक्ट किया, इजैक्ट करते ही जब मेरा पैराशूट खुला और मैं नीचे आया तो मेरे पास अपने बचाव के लिए केवल पिस्तौल थी। वहां पर मैंने देखा कि लोग बहुत ज्यादा थे। और मेरे पास बचाव का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था।
मेरे पास सिर्फ अपनी पिस्तौल थी। और मैंने तब भागने के बारे में सोचा और मैं भागा भी। जिसके बाद मेरे पीछे काफी दूर तक लोग आए और उन लोगों का जोश काफी ऊंचा था। और उसी वक्त पाकिस्तान आर्मी के जवान आए और उन्होंने मुझे उन लोगों से बचाया।
जो लोग मुझे बचाने आए पाकिस्तानी आर्मी के कप्तान थे। वह आए और उन्होंने मुझे लोगों से बचाया और मुझे ज्यादा कुछ होने नहीं दिया। फिर वह मुझे अपनी यूनिट तक लेकर गए, जहां पर मुझे फर्स्ट एड दिया गया। और उसके बाद मुझे हॉस्पिटल ले जाया गया।
इसके बाद मेरी जांच हुई मैंने पाया कि पाकिस्तानी आर्मी जो है वह बहुत प्रोफेशनल है। और मैं उसकी रिस्पेक्ट करता हूं, और मैं पकिस्तान आर्मी से बहुत इम्प्रेस हूँ।

भारतीय मीडिया हर बात बहुत बड़ा चढ़ा कर कहती है।
जो छोटी सी चीज होती है उसका बहुत ही बड़ा अर्थ निकाला जाता है और बहुत ही नमक मिर्च लगाकर और इतना आग लगाकर मिर्च लगाकर बोलते हैं जिसकी वजह से लोग बहकावे में आ जाते हैं और गलतफहमी पैदा होती हैं।

About admin

Check Also

लॉकडाउन में जंगल कटवा रहे वन विभाग के कर्मचारी

ग्वालियर– लॉक डाउन के चलते हुए भी सरकारी कर्मचारियों का पैसे कमाने का मोह कम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *